लॉकडाउन 4.0 – बंदिशें कम, रियायत ज्यादा मिलने के आसार

नई दिल्‍ली
लॉकडाउन के चौथे चरण का ऐलान आज (17 मई) हो सकता है। सभी राज्यों से मिले फीडबैक के बाद केंद्र सरकार नये दिशा-निर्देश वाले लॉक डाउन की घोषणा करेगी तो कई तरह के बदलाव देखने को मिल सकते हैं। सरकार ने संकेत दिए हैं कि लॉकडाउन के चौथे चरण में इस बात संतुलन बनाया गया है कि किस हद तक और कहां रियायत दी जाए, जिससे आर्थिक गतिविधि को भी शुरू करने में मदद मिले और रोगों के संक्रमण को भी नियंत्रण रखने में प्रभावी हो।

इस बार मिलेंगी बहुत रियायतें
लॉकडाउन 4 के गाइडलाइंस को तय करने में सबसे अधिक मशक्कत इसी पर है। पीएम संकेत दे चुके हैं कि 18 मई से लॉक डाउन के चौथे चरण में बहुत सारी रियायत मिल सकती हैं। सूत्रों के अनुसार अब आने वाले दिनों में सीमित रूप से रेल और हवाई सेवाओं के अलावा शहरों के अंदर आवाजाही को भी शुरू करने की दिशा में पहल की जाएगी। चौथा चरण 31 मई तक जारी रह सकता है।

askmedigi - facebook Post -9911461116
ये छूट मिल सकती हैं

  • जरूरी सभी सेवाओं के दुकानों को खोलने की अनुमति मिल सकती है, जिनमें सैलून भी शामिल होंगे
  • लोकल ऑटो,टैक्सी की सर्शत आवाजाही शुरू हो सकती है
  • राज्यों की सीमाएं बंद रखने का फैसला हो सकता है
  • सभी कारखानों में एक तिहाई कर्मचारियों से तीन शिफ्टों में काम शुरू हो सकता है।
  • राज्य व जिला प्रशासन कि वे कहां अधिक बंदिश रखें और कहां रियायत दें।
लॉकडाउन 4: देशभर के 30 जिले रेड जोन में हो सकते हैं

लॉकडाउन 4: देशभर के 30 जिले रेड जोन में हो सकते हैंचूंकि लॉकडाउन का तीसरा चरण 17 मई को समाप्त होगा, इसलिए लॉकडाउन 4.0 के अंदर के विवरणों को एक्सेस किया गया है। लॉकडाउन 4.0 के दौरान 30 जिलों को लाल क्षेत्रों में रखे जाने की संभावना है। हर राज्य को प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा लॉकडाउन शासन से निपटने के लिए एक रणनीति प्रस्तुत करने के लिए कहा गया था। जबकि कुछ राज्यों ने लॉकडाउन के विस्तार का समर्थन किया है, उनमें से अधिकांश ने प्रतिबंधों में ढील देने के साथ-साथ लाल, हरे, नारंगी क्षेत्रों के क्षेत्रों के सीमांकन का निर्णय लेने में अधिक स्वायत्तता मांगी है।


कई राज्‍यों ने लॉकडाउन जारी रखने को कहा था
सभी सीएम के साथ हाल में वीडियो कांफ्रेसिंग के बाद पीएम ने मुख्यमंत्रियों से राय मांगी थी कि आगे का रोडमैप कैसा होना चाहिए। सरकारी सूत्रों के अनुसार अधिकतर राज्यों ने भी प्रधानमंत्री से कहा है कि 17 मई के बाद भी लॉकडाउन जारी रहना चाहिए। लेकिन इस बार इसे लागू करने के लिए दिशा-निर्देश का अधिकार राज्यों के सीएम ने कहा कि यह उनके पास रहना चाहिए। पंजाब के सीएम ने भी कहा कि लॉकडाउन अभी जारी रखना चाहिए। उन्होंने कहा कि रियायत या बंदिशों के बारे में स्थनीय स्तर पर फैसला लेंगे तो अधिक प्रभावी होगा। महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे पहले ही 31 मई तक लॉकडाउन बढ़ाने का ऐलान कर चुके हैं लेकिन इस बार कई रियायतों की भी घोषणा की है।

भारत में कहां, कितना फैला कोरोना, यहां देखिए पूरी लिस्ट

कब-कब लगा लॉकडाउन?
अब तक लॉक डाउन तीन बार लगाए जा चुके हैं। पहली बार 25 मार्च से 14 अप्रैल तक लॉकडाउन रहा था। इसके बाद दूसरे चरण में 15 अप्रैल से 3 मई तक पाबंदियां लगाई गई थीं। पीएम मोदी ने तीसरे चरण में 4 मई से 17 मई तक देश में कोरोना की रोकथाम के लिए सख्ती करने को कहा था। अब चौथे दौर का लॉक डाउन कैसा होगा, यह देखना होगा।

Facebooktwitterredditpinterestlinkedinmailby feather